DCP full form In Hindi | DCP कौन होता है संपूर्ण जानकारी

क्या आपको पता है, की DCP full form क्या होता है। क्या आप जानते है, की DCP क्या होता है, DCP कैसे बनते है। अगर आप सरकारी नोकरी की तैयारी कर रहे है, तो आपने कभी न कभी DCP के बारे में जरूर सुना होंगे। जो लोग पुलिस की नोकरी करना चाहते है, उनको DCP की परीक्षा जरूर देनी चाहिए। लेकिन अगर आपको डीसीपी का बारे में जानकारी नही है, तो कोई बात नही, आज की पोस्ट में हम आपको डीसीपी बनने के बारे में बताने वाले है, की DCP kya hota hai, DCP का मतलब क्या होता है, DCP in police में किसके लिए प्रयोग किया जाता है।

नार्मल भाषा मे डीसीपी को पुलिश उपायुक्त के नाम से जाना जाता है। डीसीपी का पद आपको शहरों में देखने को मिलता है। यह शहरों की सुरक्षा व्यवस्था से संबंधित होता है। अगर आप भी देश की सेवा करना चाहते है, या सरकारी नोकरी की तैयारी कर रहे है, तो आपको भी DCP की तैयारी करनी चाहिए। डीसीपी बनने के लिए आपको ips की परीक्षा पास करनी होती है, उसके बाद आपको प्रमोशन के द्वारा DCP बनाया जाता है। आप इस पोस्ट में DCP kya hai, full form of DCP के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है।

DCP full form In Hindi | DCP कौन होता है संपूर्ण जानकारी
DCP full form In Hindi |

DCP क्या है और डीसीपी कैसे बने

अगर आप भी डीसीपी बनना चाहते है, या DCP ka full form के बारे में जानना चाहते है, तो इससे पहले आपको पहले डीसीपी क्या होता है और police में DCP का क्या कार्य होते है, इनके बारे में जानकारी होना जरूरी है। अगर आपको डीसीपी के बारे में जानकारी नही है, तो आपके लिए डीसीपी बनना मुश्किल हो जाएगा। यहां हम डीसीपी ओर DCP के बारे में बता रहे है।

DCP full form in hindi

DCP को Deputy Commissioner of Police अधिकारी के नाम से जाना जाता है। DCP बड़े शहरों, महानगरो के पुलिस विभाग में एक पुलिस का पद है।  DCP बनने के लिए आपको ips कि एग्जाम को पास पास करना जरूरी होता है। क्योंकि DCP का पद प्रमोशन के द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है।एक DCP की पहचान के तौर पर आपको अशोक स्तंभ के चिन्ह के नीचे एक स्टार देखने को मिलता है। DCP का पद आपको बड़े बड़े महानगरो ओर बड़े शहरों में ही देखने को मिलता है, क्योंकि छोटे शहरों में DCP की जगह sp का पद देखने को मिलता है।

DCP full form in hindi को पुलिश उपयुक्त अधीक्षक के नाम से जाना जाता है। अंग्रेजी भाषा और हिंदी भाषा मे इसका उच्चारण करने में कठिनाई होने के कारण इसको शार्ट में DCP के नाम से जाना जाता है।  DCP की शार्ट form को लोग अलग-अलग नाम से पहचाने है, कुछ लोग DCP के नाम से पहचानते है, इन सबका मतलब पुलिश उपयुक्त ही होता है। DCP का पद प्राप्त करने के लिए आपको uppsc की परीक्षा पास करनी होती है।

DCP full form in police

DCP कुछ तीन अक्षरो से बना हुआ एक शार्ट फॉर्म है, जिसको Deputy Commissioner of Police या जिला पुलिश उपयुक्त के नाम से जाना जाता है।

  • D= deputy
  • C= Commissioner
  • P= Police

इसको कुल मिलाने पर DCP को डिप्टी कमिश्नर पुलिस के नाम से पहचाना जाता है।

DCP क्या है और इसके क्या कार्य है

डीसीपी की फुल फॉर्म से आपको डीसीपी के बारे में थोड़ी बहोत जानकारी तो हो गई होगी, की यह पुलिश विभाग में एक पद होता है। एक डीसीपी की पहचान उसके कंधे पर लगे हुए अशोक स्तंभ के नीचे एक स्टार चिन्ह से की जा सकती है। डीसीपी का पद किसी भी राज्य के किसी भी जिले में पुलिश विभाग का दूसरा सबसे बड़ा पड़ होता है, जिसको उस जिले से संबंधित शक्तियां मिली हुई होती है, जिस जिले का वह डीसीपी होता है।

एक डीसीपी का मुख्य कार्य जिले में शांति व्यवस्ता कायम रखना है। शहरों में आपराधिक गतिविधियों पर नियंत्रण करके अपराधियो को पकड़ना है , ओर जिले में शांति व्यवस्था बनाये रखना है। डीसीपी नागरिकों के लिए लोककल्याणकारी कार्य करता है। एक डीसीपी जिले में नागरिकों की ओर उनकी संपत्ति को सुरक्षा  प्रदान करता है। जिले में हो रहे अपराध को कम करने या अपराधों को खत्म करने का कार्य डीसीपी के प्रमुख कार्यो में माने जाते है।

व्यक्ति के आईपीएस अधिकारी बनने के चार साल के बाद प्रमोशन के द्वारा उसको DCP के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है। एक डीसीपी के पास sp की तुलना में ज़्यादा सक्तिया प्राप्त होती है ,क्योंकि डीसीपी एक जिले में पुलिस कमिश्नर के बाद दूसरा सबसे बड़ा पद होता है। अगर कोई जिला मजिस्ट्रेट की निगरानी में होता है ,तो sp  इसके अधीन होता है। लेकिन एक डीसीपी को इसमे sp  की तुलना में अधिक शक्तियां प्राप्त होती है, जिससे वह अपने विवेक के आधार पर निर्णय ले सकता है।

डीसीपी कैसे बनते है डीसीपी बनने के लिए क्या योग्यताएं है

डीसीपी बनने के लिए कोई सीधी भर्ती प्रक्रिया की वेकैंसी नही निकाली जाती है। एक डीसीपी बनने के लिए आपको आईपीएस अधिकारी के रूप में चार साल तक कार्य करने के बाद यह पद प्राप्त होता है। uppsc एग्जाम की माध्यम से पासआउट स्टूडेंट ओर राज्य सरकारों की भर्ती प्रक्रियाओ से सरकारी नोकरी प्राप्त करने के कुछ सालों बाद प्रमोशन के द्वारा DCP police का पद प्राप्त होता है यहां पर हम आपको डीसीपी बनने के लिए यूपीएससी परीक्षा ओर इसकी योग्यताओ के बारे में बता रहे है।

डीसीपी बनने के लिए आवश्यक योग्यताओं के बारे में जानकारी

अगर आप डीसीपी बनने के लिए uppsc की परीक्षा या आईपीएस की परीक्षा दे रहे है , तो इसके लिए कुछ योग्यताएं निश्चित की गई है। एक DCP आयुक्त बनने के लिए आपको इन योग्यताओं को पूरा करना जरूरी है, तभी आप DCP बन सकते है।

1. डीसीपी के पद पर सिर्फ भारतीय व्यक्तियों को ही नियुक्तियां प्रदान की जाती है। इसलिए DCP बनने के लिए भारत देश में जन्म होना जरूरी है

2. एक DCP उपायुक्त पद पर पूरे जिले की सुरक्षा का भार होता है, इसलिए DCP बनने के लिए आपका स्वास्थ्य मानसिक रूप से स्वस्त होना जरूरी है

3. डीसीपी बनने के लिए uppsc की एग्जाम देने के लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना जरूरी है{b.a, b.com, b.sc)

4. आपकी आयु सीमा कम से कम 21 वर्ष से कम और अधिकतम  32 वर्ष से ज़्यादा नही होनी चाहिए{ sc or st वर्ग को आयु सीमा में 3 वर्ष तक कि छूट दी गई है।

5. आपकी हाइट कम से कम 165 cm ओर छाती 85 cm होना जरूरी है।

डीसीपी बनने के लिए परीक्षाओ के बारे में जानकारी

डीसीपी बनने के लिए तीन प्रकार की परीक्षाओ का आयोजन किया जाता है। अगर आप तीनो परीक्षाओ को पास कर लेते है, तो आपको आईपीएस या uppsc बोर्ड के अधिनस्त ips के पद पर तैनात किया जाता है। चार साल नोकरी करने के बाद आपको प्रमोशन के द्वारा डीसीपी पुलिश के पद पर नियुक्त किया जाता है। इसकी परीक्षाओ के कुल तीन चरण होते है।

इसके लिए आपको प्रथम परीक्षा में 300 नंबर के प्रशन पूछे जाते है। जब आप परीक्षा में पास हो जाते हो, तो आपको दितीय परीक्षा पास करना होता है। अगर आप दोनों परीक्षाओ को पास कर लेते हो, तो आपको इंटरव्यू देना होता है।

अगर आप साक्षत्कार की परीक्षा पास कर लेते हो, तो आपको आईपीएस की नौकरी या uppsc बोर्ड के द्वारा नोकरी प्राप्त होती है। एक आईपीएस अधिकारी से DCP बनने के लिए आपको आईपीएस के पद पर अच्छा कार्य करना होगा। वर्तमान समय मे एक डीसीपी की अधिकतम सेलरी 34500 रुपये तक हो सकती है, ओर यह समय के साथ बदलती रहती है।

एक डीसीपी का पद एक जिले में दूसरा सबसे बड़ा पुलिस का पद होता है, जिसको जिले में कार्य करने हेतु असीमित शक्तियां प्राप्त होती है। एक डीसीपी का प्रमुख कार्य अपने जिले में अपराधों को कम करके आमजन के लिए लोक कल्याणकारी कार्य करना है। एक डीसीपी का कार्य लोगो के जीवन की रक्षा करना और उनकी संपत्ति की सुरक्षा करना होता है, ताकि लोगो के जीवन जीने की गुणवत्ता में सुधार हो सके , जिससे की राज्य के सचांलन में किसी प्रकार का कोई गतरोध उत्पन नहीं हो पाए।

निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने डीसीपी क्या है , DCP full form के बारे में बताया है। ज़िन्दगी में हमे कभी न कभी पुलिस के चक्कर जरूर लगाने पड़ते है। ऐसे में अगर हमे पुलिश विभाग के बारे में अच्छे से जानकारी होगी, तो हमे अपने अधिकारों के लिए लड़ने में आसानी होगी। इसलिए आपको acp , DCP ,sp, पुलिश कमिश्नर के पद और उनके कार्य के बारे में जानकारी होना जरूरी है।

डीसीपी से सम्बंधित सवाल हमे परीक्षाओ में भी देखने के लिए मिलते है। अगर आप पुलिश विभाग में नोकरी के लिए कोई परीक्षा देने जा रहे हो, तो आपको पुलिस विभाग से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी होना जरूरी है, क्योंकि हमें परीक्षाओ में full form से संबंदित सवाल पूछे जाते है DCP full form क्या होती है, DCP का मतलब क्या होता है,

अगर आपको हमारी पोस्ट DCP full form in hindi पसंद आई है, तो इसे फेसबुक, whatsapp, इंस्टाग्राम पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे, ताकि उनको भी DCP के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके।

Leave a Comment