Graduate or Post Graduate में अंतर In Hindi

Graduate or Post Graduate में अंतर : हेल्लो दोस्तों ! आप सभी का एक बार फिर से हमारे इस नए पोस्ट में स्वागत है आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे की Graduate और Post Graduate में अंतर यानी की ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट में क्या अंतर होता हैं और ये क्या होता हैं , पूरी विस्तार में जानेंगे तो चलिए शुरू करते हैं।

आपने बहुत बार लोगों के मुंह से सुना होगा कि उस बन्दे का ग्रेजुएशन चल रही है या फिर उसने अपनी ग्रेजुएशन कंप्लीट कर ली है या फिर वो पोस्ट ग्रेजुएट हैं , तब आपके दिमाग में एक बात तो जरूर आती होंगी की आखिरकार ये हैं क्या और कैसे मैं भी कह सकता हूं की मैं भी ग्रेजुएट हूं या पोस्ट ग्रेजुएट हूं , इसके लिए कोन सी परीक्षा पास करनी होगी और भी बहुत कुछ जानेंगे हम इस पोस्ट में तो चलिए शुरू करते हैं !

Graduate or Post Graduate में अंतर In Hindi

पूरी दुनिया में बिना Graduate की Degree के कोई भी अच्छी नौकरी नहीं मिलती , अपने जीवन में अच्छा करियर और पर्सनेलिटी बनाने में भी इस डिग्री का काफी महत्व है ।

All Heading

Graduate क्या हैं?

Graduate बना हुआ है ग्रेजुएशन से और यह एक बैचलर डिग्री है, यह हमे हमारी बारहवीं के बाद जो पढ़ाई करनी होती हैं 3-4 साल की उसे करने पर हासिल होती हैं । इनमे B.A / BSC / B.com / BBA / BCA / B.Tech , जब कोई छात्र इन सभी कोर्सेज में से कोई एक कर लेता है तो वह ग्रेजुएट कहलाता हैं ।

ये आमतौर पर तीन साल का कोर्स होता हैं लेकिन अगर आप Btech या मेडिकल से करते हैं तो आपका 4 और 5 का कोर्स होता हैं । Law से करने पर भी आपका कोर्स 5 साल का होता हैं ।

Graduate होने के लिए योग्यता ?

अपना ग्रेजुएशन पूरा करने या ग्रेजुएट होने के लिए कोई खास कंडीशंस नहीं हैं जैसे की अपको किसी एक स्ट्रीम से ही +2 और ग्रेजुएशन करना हैं । +2 पूरा करने के बाद आप किसी भी स्ट्रीम या सब्जेक्ट से अपना ग्रेजुएशन पूरा कर सकते हैं जैसे की :- [ Science । Commerce । Arts । Computer । Medical । Law । Journalism । Designing । Management । Etc. ]

हां , लेकिन एक कंडीशन हैं की आप +2 किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पूरा कर चूकें हो तब ही ग्रेजुएशन में एडमिशन ले सकते हैं अन्यथा नहीं ले सकते ।

किसी भी कॉलेज में ग्रेजुएशन में एडमिशन लेने से पहले यह पता अवश्य कर लें कि यूनिवर्सिटी या कॉलेज जिसमे आप अपना एडमिशन करवा रहे हैं वो UGC ( University Grants Commission ) से Recognized यानी की मान्यता प्राप्त है की नही ।

क्युकी बहुत सारे ऐसे यूनिवर्सिटी रहते हैं जिनके पास ये नहीं होता हैं और फिर बाद में आपको इसकी वजह से बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता हैं । कॉलेज या यूनिवर्सिटी का रिकॉग्नाइज्ड होना बहुत ही जरूरी होता हैं और ये स्टूडेंट के फ्यूचर के प्राइवेसी के लिए भी बहुत जरूरी होता हैं ।

Graduate होना क्यों अनिवार्य है ?

अभी के समय में आपका ग्रेजुएट होना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि जितने भी कंपनीज भारत देश में हैं या कहीं भी वो चाहेगी की उनकी कम्पनी ने ऐसे व्यक्ति काम करे जिसकी पर्सनेलिटी और एक्सपीरियंस अच्छा हो , और आप सभी तो जानते होंगे की ग्रेजुएशन पीरियड में हमको इन सभी बातों के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की जाती हैं ।

ग्रेजुएट व्यक्ति को किसी भी फील्ड में नौकरी आसानी से मिल जाती हैं जबकि बिना ग्रेजुएट को बहुत ही मुसीबतों का सामना करना पड़ता हैं नौकरी पाने के लिए । और अपनी ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद ही आप एक टॉप लेवल Competitive Exams में बैठ सकते हैं।

ग्रेजुएशन की पढ़ाई के दौरान आपको पढ़ाई के साथ साथ आपके करियर को आगे ले जाने का भी रास्ता बताया जाता हैं , मतलब आपको आगे की चुनौतियों से लड़ने और आगे बढ़ने की भी तरीका बताया जाता हैं ! 

Graduation कैसे करें?

ग्रेजुएशन करने में कोई बहुत बड़ा काम नही करना पड़ता हैं इसके लिए अपको सिंपली अपना 12th किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से करना होगा और फिर उसके बाद आप अपना एडमिशन अपने अनुसार ग्रेजुएशन में करवा सकते हैं , जैसे कि B.A / BSC / B.com / BBA / BCA / B.Tech आदि , आपके आपके द्वारा चुने हुए कोर्स के हिसाब से आपके ग्रेजुएशन का टाइम रहता हैं , अधिकतम ग्रेजुएशन का टाइम 3 साल का होता हैं लेकिन कई बार अलग अलग कोर्स चुनने से ये बढ़कर 4 से 5 साल का हो जाता हैं ।

12th में अगर आपका नंबर ठीक ठाक है तो आप सरकारी यूनिवर्सिटी या कॉलेज से अपना ग्रेजुएशन पूरा कर लें अन्यथा अगर आप प्राइवेट से करना चाहतें हैं तो आपको +2 में अच्छा नंबर ( 80%+ ) लाना होगा , क्युकी बिना अच्छे नंबर के प्राइवेट कॉलेजों में एडमिशन नहीं मिलती हैं और उसके साथ साथ आपका प्राइवेट में पैसा भी काफी ज्यादा लगेगा ।

Graduation के कुछ कोर्सेज ?

  • UG Course Bachelor Degree
  • B.A (Bachelor of Arts)
  • B.Sc (Bachelor of Science)
  • B.PHARMA (Bachelor of Pharmacy)  
  • B.Com (Bachelor of commerce)
  • LLB (Bachelor of Law)
  • BCA (Bachelor of computer application)  
  • BBA (Bachelor of Business Administration)
  • B.E/B.TECH (Bachelor of Engineering/Technology)

Post Graduate क्या हैं ?

पोस्ट ग्रेजुएट एक मास्टर डिग्री हैं । यानी की आसान भाषा में बोले तो जब कोई छात्र किसी कोर्स में मास्टरी कर लेता है तो कह सकता हैं की मैं पोस्ट ग्रेजुएट हूं , जब कोई छात्र अपनी ग्रेजुएशन पूरा कर लेने के बाद भी उसी कोर्स में और पढ़कर मास्टर डिग्री लेना चाहता है तो उसी को पोस्ट ग्रेजुएट यानी की स्नातकोत्तर कहा जाता हैं , इसमें M.A/ M.com / MSC / MCA / M.Tech, की पढ़ाई करनी होती हैं । 

अगर आप अपनी ग्रेजुएशन में मास्टर की पढ़ाई पूरी कर ली हैं और नौकरी को ना चुनकर Research में जाना चाहते हैं तो आपके पास एक अवसर रहता हैं डॉक्टर बनने का और उसके लिए आपको PhD की डिग्री लेनी होगी , PhD कोर्स की अवधि आमतौर पर 2 से 3 वर्ष की होती है.PhD में एडमिशन के लिए हमेशा Entrance Exam होता हैं।

Post Graduate होने के लिए योग्यता ?

किसी भी कोर्स में मास्टर बनने के लिए यानी की पोस्ट ग्रेजुएट होने के लिए आपके पास कुछ सत्ते रहती हैं जैसे की आप +2 तथा ग्रेजुएशन किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पास हो , तब ही आप अपनी आगे की पढ़ाई करके मास्टर डिग्री ले सकते हैं अनायथा नहीं !

Post Graduation करना क्यों जरुरी है ?

कोई अगर खूब पढ़ाई करना चाहे तो उसकी पूरी जिंदगी बीत जाएगी क्युकी पढ़ाई कभी खत्म नहीं होती हैं , और अभी के टाइम में 50% से भी ज्यादा लोग नौकरी के लिए पढ़ाई करते हैं लेकिन बहुत सारे ऐसे लोग भी हैं जो की अपनी नॉलेज बढ़ाने के लिए पढ़ाई करते हैं । किसी भी कंपनी ने ग्रेजुएट से ज्यादा महत्व पोस्ट ग्रेजुएट का हैं क्युकी सभी कंपनीज हाई नॉलेज और प्रोफेशन वाले व्यक्ति की तलाश में रहती हैं , वो भी चाहते है कि उनकी कम्पनी में मास्टर डिग्री वाला व्यक्ति हों ।

लेकिन आजकल छात्र ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद ही नौकरी करना सुरु कर देते हैं और आगे की पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई नहीं करते हैं । अगर कही एक ग्रेजुएट स्टूडेंट हैं और एक पोस्ट ग्रेजुएट स्टूडेंट हैं तो ज्यादा महत्व और ज्यादा ज्ञान पोस्ट ग्रेजुएट का होगा ।

Post Graduate होने के फायदे ?

यहां नीचे कुछ फायदे बताए गए हैं अगर आप पोस्ट ग्रेजुएट हैं तो :-

  • जीवन में काफ़ी ज्यादा अनुभव .
  • करियर को एक अच्छे स्तर पर ले जाने में सक्षम .
  • एक फील्ड में मास्टर , जिससे पोस्ट ग्रेजुएट हैं .
  • किसी भी नौकरी में अपना प्रमोशन ऊपर वाले पोस्ट में कर सकते हैं .
  • एक अच्छा अमाउंट में सैलरी का पैकेज .
  • पोस्ट ग्रेजुएशन करने से आपको स्किल डेवलप करने में मदद मिलती हैं .
  • अंतिम में बोले तो पोस्ट ग्रेजुएट होने से आपके पास अच्छा घर , अच्छी ज्ञान , अच्छा पैसा , और खुशहाल जीवन व्यतीत होता हैं ।

Graduate or Post Graduate में अंतर ?

बहुत सारे छात्र पोस्ट ग्रेजुएट के नाम से भ्रमित हो जाते हैं , की ये क्या हैं लेकिन वास्तव में दोनों डिग्री के बीच में कोई बहुत बड़ा अंतर नहीं है। इसलिए चलिए इन दोनों के बीच का अंतर जानते हैं कि क्या हैं :- 

  • Graduate एक बैचलर डिग्री है जबकि Post Graduate एक मास्टर डिग्री है ।
  • Graduate होने के बाद ही कोई भी छात्र Post Graduate हों सकता है ।
  • Post Graduate की डिग्री Graduate की तुलना में बड़ी डिग्री होती है ।
  • ग्रेजुएट को हिंदी में स्नातक कहा जाता हैं जबकि पोस्ट ग्रेजुएट को हिंदी में स्नातकोत्तर कहा जाता हैं।
  • Graduation में जाने के लिए +2 पास होना अनिवार्य होता है जबकि Post Graduate के लिए +2 और Graduation दोनों का पास होना अनिवार्य होता हैं ।
  • ग्रेजुएशन के मुकाबले पोस्ट ग्रेजुएशन में काफ़ी ज्यादा जानकारी प्रदान की जाती हैं।
  • ग्रेजुएशन की तुलना में पोस्ट ग्रेजुएशन में आपका एक्सपीरियंस काफ़ी ज्यादा बढ़ जाता हैं ।
  • Graduation में BA, BSC, B.com, BBA, BCA, B.Tech आते है लेकिन Post Graduation में MA, MSC, MCOM, MBA, MTech etc. के कोर्सेज आते है।

Post Graduate के कुछ कोर्सेज ?

  • M.A (Master of Arts)
  • M.Sc (Master of Science) 
  • MBA (Master of Business Administration)
  • M.PHARMA (Master of Pharmacy)
  • M.E/TECH (Master of Engineering/Technology)
  • M.Com (Master of Commerce)
  • MCA (Master of Computer Application)
  • LLB (Master of Law)

Post Graduation कैसे करें ?

पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करने के लिए आपको सिंपली सबसे पहले +2 और ग्रेजुएशन पूरा करना होगा , ग्रेजुएशन पूरा हो जाने के बाद आप किसी अच्छे और अपने अनुसार यूनिवर्सिटी या कॉलेजेस में पोस्ट ग्रेजुएशन में एडमिशन करवा ले जैसे की M.A/ M.com / MSC / MCA / M.Tech आदि !

Frequently Asked Questions 

Graduation क्या हैं ?

ग्रेजुएशन एक बैचलर्स डिग्री हैं ।

Post Graduation क्या हैं

पोस्ट ग्रेजुएशन एक मास्टर डिग्री हैं।

Graduation कितने साल की होती है ?

Graduation आमतौर पर 3 साल का कोर्स होता है लेकिन अगर आप ग्रेजुएशन मेडिकल या law से करते हैं तो आपका कोर्स 4 और 5 साल का हो जाता हैं ।

Graduation कब किया जाता है ?

ग्रेजुएशन की डिग्री आप 12th पास करने के बाद ही ले सकते है।

Graduation में कौन से सब्जेक्ट होते हैं ?

Graduation पीरियड के अलग-अलग कोर्स में अलग-अलग सब्जेक्ट होते है। बीटेक जैसे कोर्स में ज्यादा सब्जेक्ट होते है , जबकि बीए और बीएससी जैसे कोर्स में विषय कम होते है ।

Graduation को हिंदी में क्या कहते हैं ?

ग्रेजुएशन को हिंदी में स्नातक कहा जाता हैं और इससे शॉर्ट टर्म में अंडर ग्रेजुएट यानी की UG भी कहा जाता हैं ।

Post Graduation को हिंदी में क्या कहते हैं ?

पोस्ट ग्रेजुएट को हिंदी में स्नातकोत्तर कहा जाता हैं और इससे ही शॉर्ट फॉर्म में पीजी कहा जाता हैं ।

UG का फुल फॉर्म क्या होता हैं ?

UG का फुल फॉर्म Under Graduate होता हैं जिसको ग्रेजुएशन भी कहा जाता हैं ।

PG का फुल फॉर्म क्या होता है ?

PG का फुल फॉर्म Post Graduate होता है जिसको की मास्टर्स डिग्री कहा जाता हैं ।

क्या ग्रेजुएशन के बाद नौकरी मिल जाएगी ?

जी हां , आपको आपकी ग्रेजुएशन की डिग्री मिल जाने के बाद नौकरी मिल जाएगी । यह आप पर निर्भर करता है कि आप अपनी ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद जॉब करते हैं या आगे की पढ़ाई जारी रखते हैं ।

क्या MBA एक पीजी डिग्री हैं ?

जी हां , MBA ( मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन ) एक स्नातकोत्तर डिग्री है।

3 या 4 साल में ही स्नातक करना क्यों महत्वपूर्ण है ?

3 या 4 वर्षों में ग्रेजुएशन की डिग्री लेना एक महत्पूर्ण बात है क्युकी इसमें बताए जाते हैं की अपना समय कैसे प्रबंधित करें और जो आप शुरू किए हैं उसे खत्म कैसे करें । जितनी जल्दी आप नौकरी करते हैं , उतनी ही जल्दी आप पैसा भी कमाना शुरू कर देंगे, इसलिए आप अपने आप को और ज्यादा टैलेंटेड बनाइए , जिससे आपको नौकरी देने से कोई इंकार न करे ।

डिग्री महत्वपूर्ण क्यों है ?

आसान भाषा में बोले तो डिग्री का महत्व नौकरी लेने से या अपने टैलेंट को देखने का हैं , और आपके कैरियर और आपके परिवार के लिए डिग्री लेना जरूरी होता हैं । जिससे आपको आगे चलकर अपने जीवन में किसी भी तरह की कोई मुसीबतों का सामना न करना पड़े ।

निष्कर्ष

मित्रो मुझे उम्मीद है आप सभी को Graduate or Post Graduation में क्या अंतर है सभी स्पष्ट हो गया होगा | मित्रो हमने कुछ सवाल भी अपने इस लेख में जोड़े है ताकि आप सभी का अगर कोई सवाल हो तो उसका जवाब आप सभी को दूसरी site पर जा कर खोजना न पड़े |

tipsmafia ब्लॉग पर आप सभी को हर प्रकार का लेख पड़ने को मिलेगा आप सभी को हमारे ब्लॉग के अन्य लेख भी पड़ने चाहिए | आप सभी से अनुरोध है की आप इस लेख को अपने मित्रो के साथ जरूर शेयर करे |

Leave a Comment